पीएम मोदी के जनधन खातों में चल रहा रिश्वत का खेल

  • जीरो खाता खुलवाने लग रही 100 की पेसगी

 

पवन यादव, सिहोरा, N.I.T : आज देखा जाये तो देश के प्राधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी रैलियों के माध्यम से जनता को संबोधित करते हुए  हुए नहीं थकते की में देश नहीं बिकने दूँगा ,न खाऊँगा न खाने दूँगा सहित देश से  भृष्टाचार खत्म करने की बात करते  नहीं थकते  लेकिन तहसील सिहोरा में चल रहे बेंको के ग्राहक सेवा केंद्रों में खुलेआम रिश्वग ली जा रही है चाहे  वो सेंट्रल बैंक के हो या स्टेट बैंक के ग्राहक सेवा केंद्र हो  या किसी भी बैंक के  सभी बेंको में पीएम मोदी के जीरो खाता वाली स्कीम में  100 रूपये लिए जा रहे है वहीँ देखा जाये तो  लोगों  की सुविधाओं के लिए खोले गए ग्राहक सेवा केंद्रों में जीरो खाते खुलावने के नाम पर भी लोगों से 100 -100 रूपये लिए जा रहे है ये सिलसिला आज से नहीं बहुत समय से बैंक प्रबंधन की मिलीभगत से जोरों पर है लोगों की मानें तो इन ग्राहक सेवा केन्द्रो  को बैंक प्रबंधन ने मानों  रिश्वत लेने की खुलेआम छूट दे रखी हो
हमेसा सर्वर डाउन का बहाना बनाकर जब चाहे बन्द रखते है क्योस्क
वहीँ देखा जाये तो बेंको की लंबी कतार से बचने छोटे और गरीब लोग ग्राहक सेवा केंद्रों में  जाकर ही  खाता खुलवाना चाहता  है तो उसको ग्राहक सेवा केंद्र  के दो चार दिन चक्कर लगाने पड़ते है तब जाकर उसका खाता खुलता है उसमे भी उस व्यक्ति से जीरो खाता में 100 रूपये दिलेरी से लिए जाते है सूत्रों की मानें तो ग्राहक सेवा केंद्रों  द्वारा रिश्वत का ये खेल बैंक प्रबंधन की मिलीभगत से दिनदहाड़े खेला जा रहा है
पता कहीँ और का कहीँ और चल रही शाखायें
ग्राहक सेवा केंद्रों  में सिर्फ रिश्वत का खेल बस नहीं चल रहा यहाँ तो दुसरे जगहों के पते  पर भी  ग्राहक सेवा केंद्र चल रहे है सूत्रों की मानें तो इन ग्राहक सेवा केंद्रों के पते तो कहीँ  और के है लेकिन ग्राहक सेवा केंद्र कहीँ और चल रहे है लेकिन सबसे अचरज की बात तो यह है की ये सब कुछ जानते हुए भी बैंक प्रबंधन कुंभकर्णी नींद सो रहा है

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by Krypton Technology

Log in with your credentials

Forgot your details?