मैनेजमेंट और फॉर्मेसी से संबंधित 545 कॉलेज बंद, कर्ज वसूली और संपत्तियों की जब्ती को लेकर विजय माल्या की मुश्किलें बढ़ी

नई दिल्ली, N.I.T. :  सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संवैधानिक पीठ ने मंगलवार को देश के मुख्य न्यायाधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा पर महाभियोग चलाने से संबंधित याचिका खारिज कर दी. इस खबर  को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. कांग्रेस के दो राज्य सभा सांसदों- प्रताप सिंह बाजवा और अमी याग्निक ने यह याचिका दायर की थी. बताया जाता है कि इस याचिका को इसलिए खारिज किया गया कि याचिकाकर्ताओं के वकील कपिल सिब्बल ने इसे वापस लेने का फैसला किया था.

उधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहली बार खुद को प्रधानमंत्री पद का दावेदार बताया है. अखबारों की प्रमुख सुर्खियों में शामिल है. उन्होंने कहा है कि 2019 के आम चुनाव में अपने सहयोगी दलों के बीच अगर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरती है तो वे प्रधानमंत्री बनेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष के इस दावे पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ‘राहुल गांधी कांग्रेस के लिए आपदा साबित हुए हैं. उनके पार्टी का अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस को चुनाव में एक के बाद एक हार का सामना करना पड़ा है.’

कर्ज वसूली और संपत्तियों की जब्ती को लेकर विजय माल्या की मुश्किलें बढ़ी

देश में भगोड़े घोषित कारोबारी और पूर्व राज्य सभा सांसद विजय माल्या को लंदन स्थित एक अदालत ने तगड़ा झटका दिया है. अदालत ने भारतीय बैंकों की ओर से 10,000 करोड़ रुपये से अधिक की रकम वसूलने के लिए दायर मामले में उसके खिलाफ फैसला दिया है. हिन्दुस्तान  ने इस खबर को पहले पन्ने पर जगह दी है. अखबार के मुताबिक ब्रिटेन की अदालत ने कहा है कि विजय माल्या को कर्ज देने वाले 13 बैंक इसकी वसूली को लेकर भारतीय अदालत द्वारा दिए गए आदेश को पूरा कर सकते हैं. इसके अलावा अदालत ने उसकी दुनियाभर में मौजूद संपत्तियों को जब्त करने के आदेश को पलटने से भी इनकार कर दिया. माना जा रहा है कि अदालत के इस आदेश से विजय माल्या से कर्ज वसूली का रास्ता साफ हो गया है.

इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और फॉर्मेसी से संबंधित 545 कॉलेज बंद, 3.28 लाख सीटें भी खत्म

इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट और फॉर्मेसी डिग्रीधारकों के लिए पर्याप्त रोजगार के अवसर न होने से इसका असर अगले शैक्षणिक सत्र में पड़ना तय दिख रहा है. अमर उजालामें छपी खबर की मानें तो जुलाई सत्र से इन पाठ्यक्रमों के 545 कॉलेज बंद होने जा रहे हैं. इसका मतलब यह भी है कि कुल 3.28 लाख सीटें खत्म हो जाएंगी. ऐसी स्थिति में ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआईसीटीई) केवल 32.62 लाख सीटों पर ही दाखिले के लिए काउंसिलिंग करने जा रही है. बताया जाता है कि कॉलेजों को बंद किए जाने की वजह छात्र न मिलने की वजह से नुकसान होना और नियमों का पालन नहीं करना है.

 

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by Krypton Technology

Log in with your credentials

Forgot your details?