H-4 वीजा समाप्‍त करने की तैयारी में है अमेरिका, भारत को बहुत बड़ा झटका

नई दिल्ली/वॉशिंगटन, N.I.T. :  डॉनल्ड ट्रंप की सरकार अमेरिका में H-4 वीजाधारकों को वर्क परमिट्स देने के ओबामा प्रशासन के नियम को खत्म करने की तैयारी में है। अमेरिका में एच-1बी वीजाधारकों के जीवनसाथी को H-4 वीजा दिया जाता है। अमेरिका का होमलैंड सिक्योरिटी डिपार्टमेंट का मानना है कि H-4 वीजा खत्म करने से अमेरिकी वर्करों को फायदा होगा। अमेरिका में रह रहे विदेशी प्रोफेशनल्स के जीवनसाथियों को वहां काम करने की अनुमति देने वाला कानून भंग करने के ट्रंप ऐडमिनिशस्ट्रेशन के फैसले से हजारों भारतीयों पर भी नकारात्मक असर होगा। H-4 वीजाधारकों को ओबाम प्रशासन ने 2015 में वर्क परमिट जारी करने का विशेष आदेश पारित किया था। अब ट्रंप प्रशासन ने इसे खत्म करने का कदम बढ़ाया तो वर्क परमिट वाले 70 हजार से ज्यादा एच-4 वीजाधारकों को नुकसान होगा।
डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (डीएचएस) ने बुधवार को जारी अपने यूनिफाइड फॉल अजेंडा में कहा कि उसे विश्वास है कि एच-4 वीजाधारकों को रोजगार का अवसर देने की मौजूदा नीति का त्याग करने से कुछ अमेरिकी वर्कर लाभान्वित होंगे। डिपार्टमेंट ने कहा कि प्रस्तावित कानून के तहत एच-4 वर्करों को लेबर मार्केट में तुरंत उतरने की अनुमति नहीं मिलेगी। डीएचएस इस वर्ष जरूरी नोटिफिकेशन जारी करने की मियाद तीन बार टाल चुका है। इसने अपने अजेंडा में कहा कि यह एच-4 वीजाधारकों को काम करने के अधिकार से वंचित करने का उसका अपना तरीका है।
अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवा विभाग ने 25 दिसंबर 2017 तक एच-4 वीजाधारकों की ओर से रोजगार के अवसर प्रदान करने की मांग वाले 1 लाख 26 हजार 853 आवेदनों को स्वीकृति दी थी। इसमें मई 2015 के बाद से दी गईं सारी स्वीकृतियां शामिल हैं। इसमें 90 हजार 946 अप्रूवल्स, 35 हजार 219 रेनुअल्स, और खोए हुए कार्ड्स के 688 रीप्लेसमेंट के आवेदन शामिल हैं। पिछले महीने, डेमोक्रैटिक पार्टी की दो शक्तिशाली महिला सिनेटरों कमला हैरिस और क्रिस्टीन गिलब्रैंड ने ट्रंप प्रशासन से एच-4 वीजाधारकों से वर्क परमिट छीनने की ओर कदम नहीं बढ़ाने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि ऐसा फैसला लिया गया तो करीब 10 हजार महिलाएं प्रभावित होंगी।
अमेरिकी सरकार एच-1बी वीजा नीति में बदलाव के लिए नया प्रस्ताव लाने की तैयारी कर रही है। इसके जरिए H-1B वीजा के तहत आने वाले रोजगार और विशेष व्यवसायों या पेशों की परिभाषा को ‘संशोधित’ करने की योजना है। अमेरिका के गृह सुरक्षा विभाग (डीएचएस) ने बुधवार को कहा कि अमेरिकी नागरिकता और आव्रजन सेवा (यूएससीआईएस) इस संबंध में जनवरी 2019 तक नया प्रस्ताव लाने की योजना बना रही है। इसका उद्देश्य ‘विशेष व्यवसाय की परिभाषा को संशोधित करना है’ ताकि एच-1बी वीजा कार्यक्रम के माध्यम से बेहतर और प्रतिभाशाली विदेशी नागरिकों पर ध्यान केंद्रित किया जा सके।
-एजेंसियां

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by Krypton Technology

Log in with your credentials

Forgot your details?