Happy Diwali 2018: दीपावली पर घर ही नहीं मन भी करें साफ, ऐसा करके तो देखो दीपावली का आनंद ही कई गुना बढ़ जायेगा

“पांच दिवसीय दीवाली पर्व के उत्सव का आज पूरे देश में मनाया गया। दिवाली का पांच दिवसीय पर्व धनतेरस से शुरू होता है जो छोटी दिवाली, दिवाली, गोवर्धन पूजा के बाद भाई दूज पर समाप्त होता है।”

डेस्क रिपोर्ट, नई दिल्ली, N.I.T. : दिवाली पांच पर्वों की माला है- धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, गोवर्धन और भैया दोज। धनतेरस के साथ यह पर्व प्रारम्भ होते हैं और भैया दूज तक रहते हैं। समुद्र मंथन के समय देवी भगवती अमृत कलश लेकर निकली। दीवाली इनका महापर्व है। इस दिन गणपति का भी पूजन इसलिए होता है ताकि ताकि विवेक से लोग धन का इस्तेमाल करें।

59 साल बाद दिवाली पर कई लाभकारी संयोग बन रहे हैं। गुरु और शनि का दुर्लभ योग बन रहा है। दिवाली पर देव गुरु बृहस्पति, मंगल के स्वामित्व वाली वृश्चिक राशि में रहेंगे। वहीं, त्रिग्रही और आयुष्मान, सौभाग्य योग के कारण दीपावली व्यापार, राजनीति और नौकरी करने वालों के लिए अधिक मंगलकारी होगी।

पूजा का समय-
घरों पर दिवाली के पूजन का मुहूर्त 

बुधवार को सायं 5.27  बजे से 8.06  बजे है।
यह अवधि 1 घंटा 59 मिनट यानी लगभग दो घंटे रहेगी।

दीपावली सुख-समृद्धि के आहवान का पर्व है। लक्ष्मी की पूजा की जाती है। कहते है दीपावली के दिन लक्ष्मी साफ- सुथरे घरों में ही प्रवेश करती है। गंदे घरों में नहीं । घर साफ सुथरा और स्वच्छ है तो उसमें रहने वाले भी स्वस्थ और सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर होंगे।

इसलिए हम सब दीपावली आने से कुछ समय पहले ही घरों की गहन सफाई में जुट जाते है, साल भर का जमा कूड़ा- करकट और रद्दी निकल कर कबाड़ी को बेच देते है। और उनकी जगह नयी उपयोगी चीजें लाते है. अपने घर को सजाते है, दीपों को रौशन कर अंधाकार को खत्म करते है. कितना अच्छा लगता है न ये सब।

पर इन सबके बीच हम कभी ऐसा क्यों नहीं करते कि घर की सफाई के साथ-साथ अपने मन को, अपने विचारों को भी साफ करें , उनमें भी स्वच्छता और शुद्धता का प्रवाह करें पुराने अनुपयोगी विचारों को बाहर करों और नए ऊर्जावान और सकारात्मक विचारों से अपने मन को अपने चिंतन को सजांए।

ऐसा करके तो देखो दीपावली का आनंद ही कई गुना बढ़ जायेगा

मित्रों, इससे कोई इनकार नहीं कर सकता कि बाहरी स्वच्छता ही नहीं आंतरिक स्वच्छता भी महत्वपूर्ण है। कमोबेश हमारे मन की स्थिति भी सामान जैसी ही होती है। उसमें अच्छे बुरे , उपयोगी- अनुपयोगी असंख्य विचारों का तांता लगा रहता है। विचारों को प्रवाह इतना तीव्र होता है कि हमें पता ही नहीं चलता कि कौन सा विचार उपयोगी है और कौन सा नहीं । इसके कारण हमारे लक्ष्य हमेशा अस्पष्ट रहते है जीवन में अपेक्षित सफलता नहीं मिल पाती।

जिस प्रकार भाग दौड़ भरी जिदंगी में हमें रोज विधिवत सफाई का मौका नहीं मिलता वैसे ही हमें अपने विचारों को भी सकारात्मक बनाने का भी अलग से वक्त नहीं मिलता। इसलिए दिवाली का ये समय ऐसा करने का सबसे अच्छा अवसर है। क्योंकि इस समय हर तरफ स्वच्छता पर जोर होता है हमारा पूरा वातावरण ,आस पड़ोस हर एक चीज साफ सुथरी और शुद्ध होने का प्रयास कर रही होती है.यह एक तथ्य भी है कि बाहरी वातावरण का प्रभाव हमारे अंदर की सोच पर भी पड़ता है , अत: जब बाहरी वातावरण में सकारात्मकता हो तो यही समय अंदर की सफाई के लिए भी अच्छा है।

कैसे करें मन की सफाई..?

हर बार दीपावली पर जब आप घर या आँफिस की सफाई शुरू करें तो कुछ समय अपने लिए भी निकालें और अपने मन से Negative Thought को बाहर निकालने और Positive Thought को अंदर लाने का प्रयास करें।

उदाहरण के लिए

अगर आप अक्सर सोचते है कि आप अनलकी है तो तुंरत इस विचार को पकड़े और खुद से कहें – ये एक नकारात्मक विचार है और आज मैं इसे अपने मन से निकाल रहा हूँ आज में इसे हटाकर अपने मन की सफाई कर रहा हूँ। और फिर इस विचार को निकाल कर एक नया विचार मन में बैठांए कि –

मैं लकी हूँ
इसे बार बार दोहरांए और कहें, ” मैं लकी हूँ, मैं लकी हूँ, मैं लकी हूँ ” और फिर अपने महाशक्तिशाली मन से पूछें -” बताओ मैं लकी क्यों हूँ?”

तब आपका #Powerful Mind ऐसे कई कारण गिना देगा ,जो साबित कर देगा कि आप लकी है। जैसे कि-

मैं इसलिए लकी हूँ क्योंकि-

० मैं दुनिया में करोड़ों लोगों से अच्छी स्थिति में हूँ।
० मैं चल- फिर सकता हूँ, देख-सुन सकता हूँ।
० मेरा प्यारा सा परिवार है।
० मेरे पास नौकरी है।

क्या एक बार ऐसा कर लेने से ये नकारात्मक विचार मन से हमेशा को लिए निकल जाऐगे..?

नहीं, दिवाली पर साफ की हुई धूल भी तो कुछ दिनों बाद फिर से जमना शुरू हो जाती है, लेकिन तब उसे साफ़ करने में अधिक मेहनत नहीं लगती थोड़ी सी डस्टिंग से सतह साफ हो जाती है। इसी तरह जब दीपावली के अवसर पर आप एक बार अपने मन से नकारात्मक विचार को निकाल देंगें , तो पुन: उसके आने पर उस पर काबू करना आसान होगा।

दोस्तों, अंत में यही कहना चाहूँगा कि इस दीपावली पर घर- आगँन में दीपकों के साथ – साथ मन में सकारात्मक दृष्टिकोण का दीप जलाएं।

New india times की ओर से सभी देश वासियों को Happy Deewali 2018।

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by Krypton Technology

Log in with your credentials

Forgot your details?