सत्ता के मद में मानवीय दृश्टिकोण भी भूले: भाया

भाजपा झूंठ बोलने की फेक्ट्री

पत्रकार वार्ता में उठाया दुखी किसानों का मर्म

फ़िरोज़ खान, राजस्थान (बारां) N.I.T. : अंता विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद भाया ने कहा कि मौजूदा सरकार सत्ता के मद में मानवीय दृष्टिकोण को भी भूल गई। जिले भर में महंगाई की मार झेल रहे किसानों ने आत्महत्याएं कर ली, लेकिन इनके कृषि मंत्री ने उनके आश्रित परिजनों को मुआवजा देना तो दूर, उनके घर जाकर सात्वंना देना भी उचित नही समझा।

अंता कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद भाया आज जिला कांग्रेस कार्यालय पर पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होनें कहा कि भाजपा के लोग झूंठ बोलने की फेक्ट्री है और यह लोग लगातार झूंठ बोलने की प्रेक्टिस करते हैं। अब इन्हें झूंठ बोलने मे महारथ हासिल हो गई। वसुंधरा सरकार ने षडयंत्र रचा और व्यूह रचना बनाई कि कौनसा तबका, कैसी बातों से प्रभावित होता है। इन्होनें युवाओं को लुभाया, केन्द्र ने युवाओं को दो करोड नौकरियां तथा राज्य में 15 लाख युवाओं को नौकरियां देनें का सुनहरा सपना दिखाया, लेकिन किसी को भी यह रोजगार से नही जोड सके जिससे क्षेत्र का हर युवा अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहा है। कहते थे, कालाधन लाएंगे- नही आया। हर गरीब के खाते में 15-15 लाख डालेंगे-नही डाल सके। उल्टे गरीबों के खुले बैंक खातों में से उनकी खरी कमाई का बेलेन्स काट लिया। भाया ने कहा कि हमारी सरकार पर इनका आरोप था कि महंगाई बढी, लेकिन जब इनकी सरकार आई तो महंगाई कम करने के बजाय चार गुना और अधिक बढ गई। रेत के भाव आसमान पर है, पेट्रोल, डीजल बुलन्दियों पर, किसानों का बिजली बिल डबल, आम उपभोक्ताओं के घरों पर विद्युत बिल हर माह जारी कर दिए जिससे उन पर सरचार्ज का अतिरिक्त भार पडा।

पत्रकारों द्वारा किसानों के सवाल पर भाया ने कहा कि मौजूदा सरकार ने किसानों की उपज का उचित मूल्य दिलवाने के बजाय उनकी लागत को ही डबल कर दिया। खाद का प्रति कट्टा 900 से बढाकर 1400 रूपए कर दिया। बावजूद इसके किसानों को खाद के लिए मारे-मारे फिरना पड रहा है। अडानी, अंबानी को लाभ पहुंचाने के लिए डीजल की सब्सिडी खत्म कर उसे महंगा कर दिया जिसका सीधा प्रभाव किसानों की उपज की लागत पर पडा। फसल बीमा के क्लेम पास नही हुए, लहसुन काश्तकार रोने पर मजबूर हो गए, कृषि यंत्र महंगे हो गए। आमजन 952 रूपए का गैस सिलेण्डर खरीदने के लिए इधर-उधर मुंह ताक रहा है। गरीबों को गेहूं का बोनस कम कर दिया। आखिर मौजूदा भाजपा सरकार चाहती क्या है। भाया ने कहा कि अब जनता इन्हें खूब पहचान चुकी है, जनता 7 दिसम्बर को इनसे पूरा हिसाब लेगी।

आरोप पत्र किए वितरीत- पत्रकार वार्ता के दौरान प्रमोद भाया ने राजस्थान कांग्रेस कमेटी की ओर से जारी आरोप पत्र भी वितरित किए, जिसमें भाजपा सरकार की नाकामी की सूचियां है। इस आरोप पत्र के जरिए मौजूदा भाजपा सरकार से जवाब मांगे गए है।

0 Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by Krypton Technology

Log in with your credentials

Forgot your details?