क्या भाजपा में आने वाला समय अमित शाह का है

नई दिल्ली, N.I.T. : लोकसभा चुनाव शुरू होने से कुछ रोज़ पहले 7 अप्रैल को भारतीय जनता पार्टी के चुनावी अभियान के लिए एक गाना रिलीज़ हुआ- जहां पार्टी ने इसके पुराने नारे को ही दोहराया है, ‘फिर एक बार, मोदी सरकार. इस गाने के साथ 3 मिनट 24 सेकेंड का एक वीडियो भी है, जिसमें केवल पार्टी के दो नेताओं के चेहरे नज़र आते हैं- नरेंद्र मोदी और अमित शाह

नरेंद्र मोदी और अमित शाह एक परफेक्ट टीम माने जाते हैं. मोदी भाजपा का चेहरा हैं. वे न सिर्फ अपने मूल समर्थकों- जो उनके प्रति इतनी श्रद्धा रखते हैं कि उनका सामूहिक नाम ही भक्त  पड़ गया है- को अपील करते हैं, बल्कि और भी कई लोग, जिनमें शहरी पेशेवर लोगों से लेकर पहली बार के मतदाताओं तक शामिल हैं, को उनका संदेश प्रेरणादायक लगता है.

दूसरी तरफ शाह एक उस्ताद रणनीतिकार हैं, जो गठबंधन करते हैं, उम्मीदवारों को चुनते हैं. वे न सिर्फ बड़े फलक को नहीं देखते हैं, बल्कि छोटे-छोटे ब्यौरों का भी खयाल रखते हैं.

अपने नेता का दाहिना हाथ होने के साथ-साथ अपनी पार्टी के निर्विवाद नेता के तौर पर शाह एक ऐसी रश्क करने वाली कुर्सी पर हैं, जहां हर कोई उनका मातहत है, जो विद्रोहियों को काबू में रखते हैं और सिर्फ एक मकसद के लिए काम करते हैं- कि उनके सुपर बॉस की अपराजेय बरकरार रहे. निश्चित ही उनके लिए पार्टी महत्वपूर्ण है और विचारधारा भी, लेकिन आखिरकार शाह ‘साहेब’ की ही सेवा करते हैं.

इस व्यवस्था का अहम पहलू यह है कि दोनों में से एक व्यक्ति सुर्खियां बटोरता है, जबकि उसके बगल में खड़ा दूसरा व्यक्ति खुद को ज्यादा आगे नहीं करता. दोनों एक जैसी दमक से चमकनेवाला सितारा नहीं हो सकते.

हालांकि, शाह अक्सर मंचों पर मोदी के साथ दिखाई देते हैं, लेकिन आकर्षण का केंद्र मोदी ही हैं: उनके भाषणों को सुनने के लिए जनता आती है, उनके नाम पर ही वोट मिलते हैं. शाह जीत के सूत्रधार हो सकते हैं, लेकिन उनकी भूमिका मुख्य तौर पर परदे के पीछे रहकर काम करने वाली की है.

लेकिन इस व्यवस्था में बदलाव आता दिख रहा है. बीते काफी समय से शाह देशभर में एक जाना-पहचाना नाम बन गए हैं. सिर्फ गठबंधन करनेवाले के तौर पर नहीं- जैसा उन्होंने अन्य जगहों के अलावा बिहार और महाराष्ट्र में किया- बल्कि वे देशभर में चुनावी भाषण और इंटरव्यू भी दे रहे हैं. धीरे-धीरे उनका कद बढ़ रहा है, जहां वे किसी के बगल में नहीं, अकेले हैं.

किसी चुनाव के लिए पर्चा भरना अपनी ताकत दिखाने का एक अच्छा मौका होता है, खासकर हाई-प्रोफाइल उम्मीदवारों के लिए. पार्टी के कार्यकर्ता और स्थानीय नेता उम्मीदवार के साथ समर्थन दिखाने के लिए और साथ में फोटो खिंचवाने के लिए जाते हैं.

पिछले सप्ताह लोकसभा चुनावों के लिए पहली बार पर्चा भरते समय लगे जमावड़े में शाह के साथ सिर्फ उनकी ही पार्टी के बड़े नाम- राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और अरुण जेटली- नहीं थे, बल्कि रामविलास पासवान, प्रकाश सिंह बादल और सबसे अहम उद्धव ठाकरे भी थे, जो कुछ दिन पहले तक भाजपा के कटु आलोचक बने हुए थे.

नामांकन कार्यालय तक जाने के लिए शाह ने 4 किलोमीटर लंबा रोड शो किया. उनके साथ खुली कार में राजनाथ सिंह और पीयूष गोयल सवार थे.

Amit Shah Gandhinagar PTI

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और पीयूष गोयल के साथ गांधीनगर में नामांकन दाखिल करने जाते अमित शाह (फोटो: पीटीआई)

इस दृश्य के संदेश पर ध्यान दिया जाना चाहिए. शाह सिर्फ अपनी पार्टी और गठबंधन सहयोगियों के बीच ही अपनी पकड़ का प्रदर्शन नहीं कर रहे थे, बल्कि इस शक्ति प्रदर्शन के द्वारा वे यह संदेश भी देना चाहते थे कि अब वे उस गांधीनगर से पार्टी के उम्मीदवार हैं जिसका प्रतिनिधित्व लंबे समय तक लालकृष्ण आडवाणी ने किया, जो 1990 के दशक में जो अटल बिहारी वाजपेयी के बाद पार्टी के दूसरे सबसे बड़े नेता थे और जिनके नेतृत्व में पार्टी ने 2009 का चुनाव लड़ा था. हालांकि वे हार गए, लेकिन अगर भाजपा जीतती, तो वे ही प्रधानमंत्री बनते.

इन्हीं आडवाणी को शाह ने बाहर का रास्ता दिखाया और इस तरह से एक ऐसे व्यक्ति के राजनीतिक करिअर और उम्मीदों का अंत कर दिया, जो 1980 के दशक में भाजपा के संस्थापकों में से रहे और जिन्हें भाजपा को एक राजनीतिक ताकत के तौर पर स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है.

ये आडवाणी ही थे, जिन्होंने उस वक्त मोदी की रक्षा की थी, जब दूसरे लोग उनके खिलाफ थे. आज उन्हीं आडवाणी को मोदी के सबसे करीबी के हाथों अपमान का सामना करना पड़ा है. इसका प्रतीकात्मक महत्व बिल्कुल साफ है.

शाह ने मीडिया में भी अपना कद काफी बड़ा कर लिया है. पिछले दिनों शाह इंडिया टीवी के आप की अदालत कार्यक्रम में थे, जहां उन्हें मोदी सरकार की कामयाबियों पर बात करने के लिए और कांग्रेस और नेहरू-गांधी परिवार की कटु आलोचना करने के लिए एक घंटे का वक्त मिला.

तब से उन्होंने नेटवर्क 18 को एक और इंटरव्यू दिया , जो मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली कंपनी है, जिसके तले अंग्रेजी और हिंदी चैनल के साथ-साथ कई क्षेत्रीय चैनल भी हैं. इसमें कोई शक नहीं होना चाहिए कि उनके ऐसे और कई इंटरव्यू आने वाले हैं.

भाजपा के किसी और नेता को इतनी तवज्जो नहीं मिल रही है. अरुण जेटली जिन्हें 2014 के बाद के भाजपा की जीत का तीसरा महत्वपूर्ण स्तंभ माना जाता था, वे अखबारों को इंटरव्यू दे रहे हैं, ब्लॉग लिख रहे हैं, लेकिन वे मोर्चे पर नहीं दिख रहे हैं.

सुषमा स्वराज ने स्वेच्छा से खुद को चुनावी राजनीति से दूर कर लिया है और नितिन गडकरी जब सार्वजनिक तौर पर दिखाई देते हैं, तब मोदी के प्रति अपनी पूर्ण निष्ठा की घोषणा करते हैं. उनके भाजपा को पूर्ण बहुमत न मिलने की स्थिति में मोदी के ‘स्वीकार्य’ विकल्प होने के क्षणिक विचार को कब का भुला दिया गया है.

एक समय तो ‘योगी’ आदित्यनाथ को भी मोदी के संभावित उत्तराधिकारी के तौर पर देखा जा रहा था. ऐसा माना जाता था कि अपने नफरत से भरे हुए भाषणों और सांप्रदायिक राजनीति के चलते वे संघ के अनुयायियों और नेतृत्व को काफी अपील करते हैं, लेकिन योगी की यह उड़ान औंधे मुंह जमीन पर आ गिरी.

इसमें न सिर्फ उनके स्पष्ट अल्पसंख्यक विरोधी नीतियों का हाथ रहा है, बल्कि प्रशासन के मामले में उनकी जबरदस्त अयोग्यता भी इसके लिए उत्तरदायी है.

शाह अब तक मोदी के विकल्प नहीं हैं- बल्कि ऐसा होने से वे बहुत दूर हैं. सच्चाई यह है कि शाह मोदी का बनाया हुआ शाहकार हैं, क्योंकि उन्होंने ही प्रधानमंत्री बनने के महज एक महीने के बाद जुलाई, 2014 में उन्हें भाजपा का अध्यक्ष चुना था.

इसके साथ ही शाह पार्टी में सबसे ताकतवर व्यक्ति बन गए. एक ऐसे व्यक्ति के लिए जो कभी हत्या, अपहरण, जबरन वसूली का आरोपी था और जिसे 2010 में, जब वे जमानत पर चल रहे थे, गुजरात से तड़ीपार कर दिया गया था, यह यात्रा आश्चर्यचकित करने वाली है.

Amit Shah Assam PTI

असम के नागांव में हुई एक चुनावी रैली में अमित शाह (फोटो: पीटीआई)

शाह को मिला पद ही नहीं, बल्कि उनका राजनीतिक अस्तित्व भी नरेंद्र मोदी के कारण है. शाह अपने इर्द-गिर्द उस तरह से अनुयायियों का कोई संप्रदाय भी खड़ा नहीं कर सकते हैं, जिस तरह से मोदी ने किया है- जिनकी न केतस्वीर सरकार के हर विज्ञापन, उत्पाद और फ्लाइट टिकटों पर है, बल्कि उनके नाम से एक टीवी चैनल भी चल रहा है.

लेकिन, शाह इसे अपने रास्ते में नहीं आने दे रहे हैं- उनकी योजनाएं दूरगामी हैं. सालों तक परदे के पीछे रहने के बाद शाह अब मंच पर कदम रख रहे हैं. चुनाव में जीत के साथ वे लोकसभा की अगली कतार में होंगे. उन्हें मंत्री पद भी मिल सकता है.

पुराने सांसदों को बाहर का रास्ता दिखाकर नए चेहरों को चुनाव के मैदान में उतारने की उनकी रणनीति उनके वफादार समर्थकों की एक सेना तैयार करेगी, जो अपने राजनीतिक करिअर के लिए उनके प्रति एहसानमंद होंगे. आगे बढ़कर गठबंधन सहयोगियों की तरफ मित्रता का हाथ बढ़ाना सहयोगियों के एक बड़े नेटवर्क को तैयार करेगा. वे एक बेहद ताकतवर व्यक्ति बन जाएंगे.

भाजपा इस चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करे या खराब, शाह पार्टी के भीतर एक अहम ताकत होंगे. अगर पार्टी अपने दम पर बहुमत हासिल कर लेती है, तो गठबंधन बनाने के कारण इसका श्रेय उन्हें भी दिया जाएगा.

अगर ऐसा नहीं होता, तो नए सहयोगियों को तलाशने का जिम्मा उन पर ही आएगा. नैया पार लगाने के लिए मोदी उन पर निर्भर करेंगे. पार्टी के दूसरे चेहरों के डूबने और किसी अन्य विश्वसनीय और वरिष्ठ नेता की गैर-मौजूदगी में पार्टी में मोदी के बाद सिर्फ शाह का ही सिक्का चलेगा.

0 Comments

Leave a reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *

*

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by  New India Times News Network

Nit tv

New India Times न्यूज 24X7 आपको प्रत्येक खबर से 24 घण्टे अपडेट  2014 -15

Log in with your credentials

Forgot your details?

Skip to toolbar