World Heart Day: क्या आप जानते हैं दिल की सेहत से जुड़ी ये बातें, अब 30 के बाद ही प्रॉब्लम शुरू

Spread the love
दुनिया की सबसे अच्छी और सुन्दर चीजें देखा या छुआ
नहीं जा सकता है, उन्हें सिर्फ दिल से महसूस किया जाना चाहिए।

बिजी लाइफ और बदलते लाइफस्टाइल के चलते अब Heart अटैक के मरीजों की संख्या में भी काफी तेजी आई है। इनमें भी ज्यादा महिलाएं शामिल हैं।
दरअसल, सीने में हो रहे हल्के दर्द को भी महिलाएं अक्सर इग्नोर कर देती हैं, जो Heart अटैक का एक अहम लक्षण है।
अमेरिका में हुए एक रिसर्च के मुताबिक सीने में हो रहे सामान्य दर्द को नजरअंदाज करने की वजह से हार्ट अटैक की समस्या ज्यादा बढ़ रही है। इसमें जहां 42 फीसदी पुरुष सीने में दर्द की शिकायत के साथ हॉस्पिटल पहुंचे हैं, तो वहीं 30.7 प्रतिशत महिलाएं सीने में दर्द की शिकायत लेकर हॉस्पिटल पहुंची हैं। इस वजह से हार्ट अटैक के कारण महिलाओं की डेथ पुरुषों के मुकाबले 41 फीसदी ज्यादा होती है। इसकी खास वजह महिलाओं में दर्द कम होना या सहने की जबर्दस्त क्षमता का होना है। जनरल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन में पब्लिश एक रिसर्च के मुताबिक हार्ट अटैक के दौरान सीने में उठने वाले दर्द को महिलाएं आसानी से सह जाती हैं।

अगर आप किसी आदमी से उस भाषा में बात करते हैं
जो वह समझता है तो वह उसके दिमाग में उतरता है। लेकिन, अगर
आप उसकी भाषा में बात करते हैं तो वह उसके दिल में उतरता है।

लाइफस्टाइल और तनाव के चलते
बिजी लाइफस्टाइल और एक साथ कई काम के प्रेशर की वजह से जिंदगी में स्ट्रेस में आना कोई बड़ी बात नहीं है। महिलाएं इसकी चपेट में ज्यादा आती हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक बदलते लाइफस्टाइल और तनाव के चलते कम उम्र में ही महिलाएं हार्ट प्रॉब्लम की शिकार हो रही हैं। इस बार में कार्डियॉलजिस्ट बताते हैं कि हार्ट डिजीज कोई भी हो, इससे जान का खतरा होता है। आंकड़ों पर नजर डालें तो हर एक मिनट में एक डेथ दिल की बीमारी से होती है।
अब 30 के बाद ही प्रॉब्लम शुरू
मोटापा और फिजिकल वर्क ना करना हार्ट अटैक की बड़ी वजहें हैं। पानी की कमी के चलते भी हार्ट से जुड़ी प्रॉब्लम हो सकती है। इससे ब्लड थिक हो जाता है और हार्ट अटैक के चांस बढ़ जाते हैं। इसकी एक वजह लाइफ स्टाइल भी है। जंक फूड, एक्सरसाइज और प्रॉपर नींद न लेना टेंशन की वजह बनते हैं, जो दिल की बीमारी को इन्वाइट करती है। कार्डियोलॉजिस्ट कहते हैं कि पहले हार्ट अटैक 40 साल के बाद ही पड़ता था, लेकिन अब 30 के बाद ही महिलाएं इसकी चपेट में आने लगी हैं।

लाइफस्टाइल और तनाव के चलते
बिजी लाइफस्टाइल और एक साथ कई काम के प्रेशर की वजह से जिंदगी में स्ट्रेस में आना कोई बड़ी बात नहीं है। महिलाएं इसकी चपेट में ज्यादा आती हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक बदलते लाइफस्टाइल और तनाव के चलते कम उम्र में ही महिलाएं हार्ट प्रॉब्लम की शिकार हो रही हैं। इस बार में कार्डियॉलजिस्ट बताते हैं कि हार्ट डिजीज कोई भी हो, इससे जान का खतरा होता है। आंकड़ों पर नजर डालें तो हर एक मिनट में एक डेथ दिल की बीमारी से होती है।

अब 30 के बाद ही प्रॉब्लम शुरू
मोटापा और फिजिकल वर्क ना करना हार्ट अटैक की बड़ी वजहें हैं। पानी की कमी के चलते भी हार्ट से जुड़ी प्रॉब्लम हो सकती है। इससे ब्लड थिक हो जाता है और हार्ट अटैक के चांस बढ़ जाते हैं। इसकी एक वजह लाइफ स्टाइल भी है। जंक फूड, एक्सरसाइज और प्रॉपर नींद न लेना टेंशन की वजह बनते हैं, जो दिल की बीमारी को इन्वाइट करती है। कार्डियोलॉजिस्ट कहते हैं कि पहले हार्ट अटैक 40 साल के बाद ही पड़ता था, लेकिन अब 30 के बाद ही महिलाएं इसकी चपेट में आने लगी हैं।

आँखों को धोखा देना आसान है।
लेकिन, दिल को धोखा देना आसान नहीं है।
इसे भी पढिए   प्रदेश सरकार द्वारा विधुत दर दोगुना करने से किसान परेशान - राष्ट्रीय लोकदल उपाध्यक्ष जयंत चौधरी

CONTACT US

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Sending

Designed by  New India Times News Network

Nit tv

New India Times न्यूज 24X7 आपको प्रत्येक खबर से 24 घण्टे अपडेट  2014 -15

Log in with your credentials

Forgot your details?